Opinion

उपद्रवियों के उत्पात पर चुप्पी से हिन्दू समाज कल को आतंकवादी समाज के तौर पर जाना जाएगा

Sangh RSS supports rapists Kathua

नितिन ठाकुर

Download Our Android App Online Hindi News

दुनिया में चार मुसलमान बम फोड़ते थे. महज़ दो उसके खिलाफ बोलते थे और बाकी अपनी अपनी वजहों से चुप रहते थे. इसके बाद दुनिया ने आतंकवाद को इस्लाम से जोड़ दिया. ऐसा होते देख उन मुसलमानों को बड़ा दुख हुआ जो ना बम फोड़ने में थे और ना बम फोड़नेवालों के समर्थक थे.

जुड़ें हिंदी TRN से

ऐसे मुसलमान हर जगह तर्क देते कि आप चंद मुसलमानों की करतूत को पूरे इस्लाम से जोड़ उसे बदनाम क्यों कर रहे हैं? उनके तर्क पर सामनेवाले कहते कि बात आपकी सही है मगर जब अधिकतर मुसलमान इस आतंकवाद के खिलाफ सड़क पर नहीं उतरते जैसे वो गाज़ा के नाम पर उतर आते हैं तो क्यों ना माना जाए कि इस आतंकवाद में वो भी चुप रहकर साथ ही हैं, बस इसीलिए आतंकवाद इस्लामिक है.

ये खबर भी पढ़ें  लाइव शो में RSS ‘विचारक’ ने मुस्लिम नेता को दी धमकी, कहा- 'जिस दिन प्रतिक्रिया हुई, 15 सेकंड नहीं टिक पाओगे'

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान की ज़ैनब और जम्मू कश्मीर की आसिफा बलात्कार के इंसाफ का फ़र्क़!

लगता है कुछ दिनों बाद यही हाल हिंदुओं का होनेवाला है. शंभुलाल रैगर और कठुआ जैसी घटनाएं हिंदू समाज की जैसी छवि बना रही हैं उनसे लग रहा है मानो हत्यारों के पीछे सारा समाज ही झंडे उठाए खड़ा है. किसी गैर हिंदू से पहले हिंदू समाज को ही इन दरिंदों को सज़ा देनी चाहिए. अगर ऐसा ना करके हिंदू समाज चुप रहा तो कल आतंकवादी के तौर पर पहचाने जाने के लिए तैयार रहे.

ये खबर भी पढ़ें  बहुजन मूलनिवासी संघर्ष- हमारी लड़ाई दीर्घकालिक लड़ाई ह...!!!

हिंदू धर्म के नाम पर काली करतूत करनेवालों को कवर देना बंद ना किया गया तो कुछ छवि तो बन ही चुकी है. कुछ दिनों में और भी पुख्ता हो जाएगी. बात हाथ से निकल जाने के बाद सफाई मत दीजिएगा कि सारे धर्म को क्यों बदनाम किया जा रहा है. अपना धर्म और देश इन रेपिस्ट्स और हत्यारों से रीक्लेम कीजिए. ये इसके ठेकेदार बनने लायक कभी नहीं थे. ये उन हिंदुओं का धर्म और देश है जिन्होंने हमला करनेवालों तक के साथ दोस्ती और शादी करके नई तहज़ीबों को पैदा किया.

ये खबर भी पढ़ें  पुण्य प्रसून बाजपेयी का लेख - आखिर आंबेडकर को पीएम के तौर पर देखने की बात कभी किसी ने क्यों नहीं की ?

(लेखक युवा पत्रकार हैं)

You could follow TR News posts either via our Facebook page or by following us on Twitter or by subscribing to our E-mail updates.

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

To Top