Press "Enter" to skip to content

लोकपाल सर्च कमेटी की मेंबर अरुंधति भट्टाचार्य बनी रिलायंस समूह की स्वतंत्र निदेशक, रवीश कुमार बोले- वाह मोदी जी वाह!

Ravish Kumar on Arundhati Bhattacharya

जो लोकपाल चुनेगा वही रिलायंस की कंपनी में निदेशक भी होगा? अगर यह सही है तो वाकई यह कहने का वक्त है, हम करें तो क्या करें. वाह मोदी जी वाह. सितंबर महीने में लोकपाल के लिए आठ सदस्यों की सर्च कमेटी गठित की गई. इस कमेटी में अरुंधति भट्टाचार्य को भी सदस्य बनाया गया है.

बिजनेस स्टैंडर्ड और कई अख़बारों में ख़बर छपी है कि अरुंधति भट्टाचार्य मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडिया लिमिटेड के बोर्ड आफ डायरेक्टर्स का हिस्सा होंगी. बिजनेस टुडे ने बताया है कि अरुंधति एडिशनल डायरेक्टर के तौर पर कंपनी के बोर्ड का हिस्सा होंगी. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रमुख पद से रिटायर हुई हैं.

mukesh-ambani
mukesh-ambani

क्या इसी तरह से निष्पक्ष लोकपाल चुना जाएगा? क्या अरुंधति भट्टाचार्य को लोकपाल की सर्च कमेटी से इस्तीफा नहीं देना चाहिए? रिलायंस की कंपनी के स्वतंत्र निदेशक के तौर पर पांच साल तक जुड़ने वाली अरुंधति भट्टाचार्य कैसे लोकपाल सर्च कमेटी का हिस्सा हो सकती हैं? क्या सर्च कमेटी के अध्यक्ष जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई को उन्हें कमेटी से हटा नहीं देना चाहिए या अरुंधति भट्टाचार्य को ख़ुद से इस्तीफा नहीं देना चाहिए?

पांच साल बीतने जा रहे हैं अभी तक लोकपाल का गठन नहीं हुआ है. इसका सिस्टम कैसे काम करेगा, इसके कर्मचारी क्या होंगे, दफ्तर कहां होगा, कुछ पता नहीं है मगर अब जाकर सर्च कमेटी बनाई गई है वह भी सुप्रीम कोर्ट के बार-बार पूछने पर. लोकपाल बनेगा भी तो चुनावों में प्रचार के लिए बनेगा कि बड़ा भारी काम कर दिया है.

Ravish Kumar on Arundhati Bhattacharya

एयर इंडिया को बचाने के लिए राष्ट्रीय लघु बचत योजना के पैसे को डाला गया है. भारत सरकार ने लघु बचत योजना से निकाल कर 1000 करोड़ एयर इंडिया को दिया है. पब्लिक प्रोविडेंट फंड, सुकन्या समृद्धि योजना और किसान विकास पत्र में जो आप पैसा लगाते हैं, उसी समूह से 1000 करोड़ निकाल कर एयर इंडिया को दिया गया है. इस पैसे का निवेश सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों और सरकारी प्रतिभूतियों में करती ही है. 2018-19 में राष्ट्रीय लघु बचन योजना में भारत के आम साधारण लोगों ने 1 ख़रब रुपये जमा किए हैं. एयर इंडिया ने सरकार से 2121 करोड़ की मदद मांगी थी. इस पर तेल कंपनियों का ही 4000 करोड़ से अधिक का बकाया है.

BJP
BJP

यह रिपोर्ट टाइम्स ऑफ इंडिया ने की है. क्या राष्ट्रीय लघु बचत योजना का पैसा एक डूबते जहाज़ में लगाना उचित होगा? पत्रकार शेखर गुप्ता ने ट्वीट किया है कि यह भारत सरकार की तरफ से भरोसा तोड़ने जैसा है. निम्न मध्यमवर्गीय तबके की मेहनत की कमाई डूबते जहाज़ में लगाई जा रही है.

लुटे देश का आम नागरिक. इस पर फाइनेंशियल एक्सप्रेस के संपादक सुनील जैन ने ट्वीट किया है कि भारत सरकार ने एयर इंडिया को बाज़ार से लोन लेने के लिए गारंटी दी है. माना जाता है कि ऐसे में राष्ट्रीय लघु बचत योजना के डूबने की बात नहीं है. आप जानते हैं कि एयर इंडिया को बेचने का प्रयास हुआ मगर कोई ख़रीदार नहीं आया.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट है कि सरकारी बैंकों ने NTPC के लिए फंड की व्यवस्था की है ताकि वह उन कोयला आधारित बिजली घरों को ख़रीद सके जो घाटे में चल रहे हैं. ऐसे बिजली उत्पादन इकाई की संख्या 32 बताई जाती है. इनमें से NTPC ने ख़रीदने के लिए 9-10 इकाइयों का चयन किया है. जिनकी कुल उत्पादन क्षमता 10 गीगावाट्स है. जब बिजली की मांग तेज़ी से बढ़ती जा रही हो तब बिजली उत्पादन इकाइयों के घाटे में जाने के क्या कारण हैं?

टिप्पणियां इधर का घाटा, उधर का सौदा. इस नीति के तहत एक जाता है कि हम दिवालिया हो गए हैं. दूसरा जाता है कि ठीक है हम कम दाम में आपको खरीद लेते हैं. जो बैंक दिवालिया होने वाली कंपनी के कारण घाटे में हैं वही बैंक इन कंपनियों को कम दाम में ख़रीदने के लिए दूसरी कंपनी को लोन दे देते हैं. ये कमाल का हिसाब किताब है जिसे समझने के लिए आपको इस तरह के विषयों में दक्ष होना पड़ेगा. जानना होगा कि कैसे इस प्रक्रिया में पुराना मालिकाना मज़बूत हो रहा है या उसकी जगह नया मालिकाना जगह ले रहा है. जानने की कोशिश कीजिए.

Facebook Comments
More from OpinionMore posts in Opinion »

Be First to Comment

%d bloggers like this: