Opinion

क्या हत्यारों का स्वागत, दंगाईयों का समर्थन और बलात्कारियों के लिए रैली निकालना ही ‘हिंदू-पाकिस्तान’ बनने की निशानी है ?

Hindu Pakistan remark

Hindu Pakistan remark

Download Our Android App Online Hindi News

पहले ट्रोलिंग सोशल मीडिया पर हुआ करती थी। अब टीवी चैनलों पर भी होने लगा है। ताजा उदाहरण शशि थरूर हैं। उन्होंने बस इतना कह दिया कि ”बीजेपी अगर 2019 का चुनाव जीतती है तो देश हिन्दू पाकिस्तान बन जाएगा।”

जुड़ें हिंदी TRN से

बस फिर क्या था, न्यूज चैनलों ने शशि थरूर को भयानक ट्रोल कर दिया। 12 जुलाई को दोपहर लेकर रात तक न्यूज एंकर शशि थरूर को एंटी हिंदू, एंटी इंडिया, फलाना, ढिकाना कहते रहें। लेकिन सवाल तो ये है कि शशि थरूर ने गलत क्या कह दिया?

सोचा जाना चाहिए कि शशि थरूर ने ‘हिन्दू पाकिस्तान’ ही क्यों कहा? ‘हिंदू श्रीलंका’ क्यों नहीं कहा? या ‘हिंदू भूटान’ क्यों नहीं कहा? ‘हिंदू पाकिस्तान’ ही क्यों?

दरअसल, भारतीयों के दिमाग में पाकिस्तान के लिए कुछ तस्वीरें बनी हुई हैं जो काफी हद तक सही भी है। जैसे पाकिस्तान एक कट्टर मुल्क है। पाकिस्तान में सिर्फ नाम का लोकतंत्र है। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार होता है। पाकिस्तान में बहुत ही रूढ़िवादी, अपरिवर्तनवादी, दकियानुसी टाइप के लोग रहते हैं। पाकिस्तान में धर्म के नाम पर आतंक को प्रमोट किया जाता है।

ये खबर भी पढ़ें  पुण्य प्रसून बाजपेयी: बच्चों के लिए ये देश रहने लायक ही नहीं

कुल मिलाकर पाकिस्तान = कट्टरता। पाकिस्तान एक मुस्लिम बहुसंख्यक आबादी वाला मुल्क है इसलिए वहां कट्टरता मुस्लम दिखाते हैं और उनके ही धर्म का वर्चस्व है। इसलिए वो हो गया ‘मुस्लिम पाकिस्तान’

अब बात शशि थरूर के ‘हिंदू पाकिस्तान’ वाली आशंका की…

पहली बात कि शशि थरूर ने जो आशंका जाहीर की, उस तरह की आशंका पहले भी लोग सोशल मीडिया पर जताते रहे हैं। जब भी भारत में किसी अल्पसंख्यकों पर हमला होता है, या विशेष धर्म की विचारधारा को सरकार का पूर्ण समर्थन दिखता है तो सोशल मीडिया पर लोग लिखते हैं कि भारत जल्द ही पाकिस्तान की तरह बना जाएगा।

शशि थरूर ने समाज में फैली इसी आशंका को खुले मंच से कह दिया। और इस पर विवाद हो गया। लेकिन विवाद नहीं होना चाहिए। क्योंकि शशि थरूर ने जो आशंका जतायी वो काफी हद तक सही भी है।

ये खबर भी पढ़ें  रवीश कुमार का लेख - 'केंद्र सरकार की खराब पॉलिसी की वजह से मेरा बेटा मरा है'

जैस पाकिस्तान एक कट्टकर मुल्क है लेकिन भारत भी अब वैसा ही बनते जा रहा है। राजस्थान के राजसमंद में शंभूलाल रैगर ने मुस्लिम मजदूर के साथ जो किया वो क्या था? क्या शंभूलाल रैगर द्वारा अफराजुल को कुल्हारी से काटना, मिट्टी का तेल डालकर जलाना और इस पूरी घटना का वीडियो रिकॉर्ड करना कट्टरता नहीं था?

Hindu Pakistan remark

इस नृशंस हत्या के बाद शंभूलाल रैगर के समर्थन में कई धार्मिक संगठन आएं। इतना ही नहीं धार्मिक संगठनों ने शंभूलाल रैगर द्वारा की गई हत्या को जायज भी ठहराया गया, क्या ये भारत के पाकिस्तान बनने की निशानी नहीं है? पाकिस्तान में ऐसे अपराध इस्लाम के नाम पर मुस्लिम करते हैं और भारत में हिंदू कर रहे हैं। फिर कैसे नहीं हुआ भारत ‘हिंदू पाकिस्तान’?

पाकिस्तान में आतंकियों को सरकार का संरक्षण प्राप्त है। वहां की सरकार आतंकियों का स्वागत करती है। और भारत में मोदी के मंत्री जमानत पर आए हत्यारोपियों का स्वागत करते हैं, माला पहनाते हैं, मिठाई खिलाते हैं। अभी कुछ दिनों पहले ही केंद्रीय उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने जमानत पर जेल से बाहर आए हत्यारोपियों का स्वागत फूल माला और मिठाईयों से किया था।

ये खबर भी पढ़ें  झारखण्ड में भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के खिलाफ जमकर विरोध, BJP सरकार ने 8000 बंद समर्थकों को किया गिरफ्तार

वहां इस्लाम के नाम पर हत्या करने वालों का सरकार स्वागत करती है। भारत में हिंदू धर्म और गाय के नाम पर हत्या करने वालों का सरकार स्वागत कर रही है। फिर कैसे नहीं हुआ भारत ‘हिंदू पाकिस्तान’ ?

पाकिस्तान में इस्लाम के नाम पर गंभीर से गंभीर अपराध को दबाने की कोशिश होती है। भारत में भी वही हो रहा है। कश्मीर के कठुआ में एक नाबालिग लड़की से गैंगरेप कर हत्या कर दी जाती है। आरोपी हिंदू होते हैं इसलिए भाजपा के मंत्री रेप के आरोपियों के समर्थन में तिरंगा मार्च निकालते हैं। अब बताइए…कैसे नहीं हुआ भारत ‘हिंदू पाकिस्तान’?

Source:http://boltaup.com

You could follow TR News posts either via our Facebook page or by following us on Twitter or by subscribing to our E-mail updates.

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

To Top