Press "Enter" to skip to content

राफेल पर NCP से इस्तीफा दे चुके तारिक अनवर ने थामा कांग्रेस का हाथ, राहुल गांधी ने दिलाई पार्टी की सदस्यता

Tariq Anwar joins Congress

हाल ही में देश में राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर जारी राजनीतिक घमासान के बीच राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के “बचाव” में दिए बयान से नाराज़ होकर पार्टी और लोकसभा से इस्तीफा देने वाले बिहार के कटिहार से सांसद (इस्तीफा दे चुके हैं) तारिक अनवर ने शनिवार (27 अक्टूबर) को कांग्रेस का दामन थाम लिया है।

दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में तारिक अनवर ने पार्टी की सदस्यता ली। माना जा रहा है कि तारिक अनवर अगला लोकसभा चुनाव कांग्रेस के टिकट पर लड़ सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स से यह भी खबर आ रही है कि वे लालू प्रसाद यादव के सहयोग से महागठबंधन के उम्मीदवार होंगे।

Tariq Anwar with NCP chief Sharad Pawar
Tariq Anwar with NCP chief Sharad Pawar

बता दें कि, कुछ दिनों पहले ही तारिक अनवर ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का दामन छोड़ने के बाद लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तारिक अनवर ने शरद पवार के मोदी सरकार को लेकर दिए गए बयान से नाराज होकर पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

Tariq Anwar joins Congress
modi-pawar-rafel
modi-pawar-rafel

उन्होंने एनसीपी से इस्तीफा देने के बाद कहा था, ‘जब राफेल मामले में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ विपक्ष आवाज़ उठा रहा है तो पवार साहब (राकांपा प्रमुख) प्रधानमंत्री का बचाव करने वाला बयान दे रहे हैं। ऐसे में मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया। मैंने लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है।’ हालांकि पवार ने सफाई दी थी कि मीडिया में उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया और उन्होंने ऐसी कोई क्लीन चिट मोदी को नहीं दी।

बता दें कि, कांग्रेस की बिहार इकाई के पूर्व अध्यक्ष रहे अनवर ने पवार और दिवंगत पी ए संगमा के साथ मिलकर 1990 में राकांपा बनाई थी। सोनिया गांधी को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) का अध्यक्ष बनाए जाने के विरोध में उन्होंने इस पार्टी का गठन किया गया था। राकांपा इसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर और महाराष्ट्र में भी कांग्रेस के साथ गठबंधन में रही।

गौरतलब है कि, राफेल विमान सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के सनसनीखेज दावे के बाद भारत में सियासी घमासान जारी है। विपक्ष राफेल सौदे में ‘ऑफसेट साझेदार’ के संदर्भ में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के कथित बयान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार हमला बोल रहे।

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: