Swami Akhileshwaranand gets Cabinet minister rank
Swami Akhileshwaranand gets Cabinet minister rank

Swami Akhileshwaranand gets Cabinet minister rank

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

पिछले दिनों मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा कंप्यूटर बाबा समेत 5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने के बाद अब सरकार ने मध्य प्रदेश गो-संरक्षण बोर्ड के अध्यक्ष स्वामी अखिलेश्वरानंद को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है।

जी हाँ, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अखिलेश्वरानंद कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया है। कहा जा रहा है कि इस फैसले के जरिए शिवराज सरकार अब धार्मिक और समाज के संतों के माध्यम से राजनीतिक माहौल बनाने में लग गई है।

गौरतलब है कि, इससे पहले अप्रैल महीने में शिवराज सरकार ने पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था। शिवराज सरकार का यह फैसला काफी चर्चित रहा था। दरअसल, जिन संतों को राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया था वे मध्य प्रदेश में करोड़ों पौधे लगाने के दावे को घोटाला करार देकर ‘नर्मदा घोटाला रथ यात्रा’ निकालने वाले थे। जिसके बाद शिवराज सरकार ने इन्हें मनाने के लिए नर्मदा नदी के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाने के लिए एक विशेष समिति बनाई गई थी।

ये खबर भी पढ़ें  वार्डन ने दी जातिसूचक गाली तो बोला JNU छात्र- रोहित वेमुला को खोकर सीखा है अब और दमन नहीं सहेंगे
Swami Akhileshwaranand gets Cabinet minister rank

इसमें पांच संत सदस्य थे और सभी को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था। इनमें नर्मदानंद महाराज, हरिहरानंद महाराज, कम्प्यूटर बाबा, भय्यूजी महाराज एवं पंडित योगेंद्र महंत शामिल हैं।

बता दें कि आध्यात्मिक गुरु और प्रसिद्ध संत भय्यूजी महाराज (50) ने मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित अपने घर में मंगलवार (12 जून) कथित रूप से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भय्यूजी महाराज ने शिवराज सरकार के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।

ये खबर भी पढ़ें  अमित शाह: राम मंदिर का निर्माण लोकसभा चुनाव से पहले होगा, लोग बोले- पूरा देश जलाएँगे पर ‘मंदिर’ वहीं बनाएंगे

जनता का रिपोर्टर की खबर की खबर के मुताबिक, शिवराज सरकार द्वारा अब स्वामी अखिलेश्वरानंद को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है। बताया गया है कि अखिलेश्वर नर्मदा संरक्षण पैनल में साथी साधुओं से नाखुश थे। बता दें कि अखिलेश्वर मध्य प्रदेश गोरक्षा बोर्ड के अध्यक्ष रहे हैं।

दरअसल, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जिन पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था, उन्हीं में से कंप्यूटर बाबा और योगेंद्र महंत को नर्मदा संरक्षण के लिए बने पैनल में शामिल किया गया था।

ये खबर भी पढ़ें  सर्वोच्च न्यायालय ने कश्मीरी युवक को आतंकी मामलें में दी जमानत, 16 वर्षों तक जेल में रखने को बताया शर्मनाक

रिपोर्ट के मुताबिक इस बात से अखिलेश्वरानंद महाराज नाराज थे। उनके मुताबिक दोनों साधु विवादित थे। बताया गया है कि उनको 11 जून को कैबिनेट मंत्री का पद दिया गया है। बता दें कि स्वामी अखिलेश्वरानंद अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में रहते हैं। उन्होने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध गाय पर होगा और 1857 की क्रांति की वजह भी गाय ही थी।