Press "Enter" to skip to content

CBI रिश्वतकांड में घिरी मोदी सरकार, राहुल गांधी बोले – ‘मोदी शासन में खुद से ही जंग लड़ रही CBI, जांच एजेंसी का हो रहा पतन’

Rahul Gandhi targets PM Modi on rift within CBI

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के 4 सालों से ज्यादा के कार्यकाल में ऐसे कई मौके आए हैं, जहां सरकार पर अपने हितों और राजनीतिक लाभ के लिए देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का इस्तेमाल का आरोप लगे हो।

कुल मिलाकर ऐसा कभी नहीं लगा कि मोदी सरकार सीबीआई को स्वतंत्र जांच करने देना चाहती हो  बल्कि ऐसे ढेरों मौके आए, जब मोदी सरकार ने नियमों को ताक पर रखकर सीबीआई से जुड़े फैसले लिए और सीबीआई का मनमर्जी से इस्तेमाल किया।

मोदी सरकार पर राजनीतिक बदले की भावना से भी सीबीआई के इस्तेमाल के आरोप लगे। इसी बीच एक बार फिर  सीबीआई पर नियंत्रण को लेकर मोदी सरकार कठघरे में खड़ी नजर आ रही है।

 

Rahul Gandhi attacks PM Modi
Rahul Gandhi attacks PM Modi

दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में आरोप लगाया है कि, मोदी सरकार में सीबीआई का राजनीतिक प्रतिशोध के हथियार” के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

बता दें कि, बीते 48 घंटों में सीबीआई में 2 करोड़ की रिश्वत किसने ली? यह चर्चा का विषय बना हुआ है। रिश्वत भी उस मामले में ली गई, जिसकी जांच सीबीआई सीधे तौर पर नहीं कर रही। आरोप जिसने लगाए हैं उसने सबूत भी पेश किए हैं, और वीडियो क्लिप भी, लेकिन अभी तक पीएमओ से लेकर सरकार इस मामले में चुप है।

वहीं, सीबीआई रिश्वतकांड को लेकर राजनीतिक माहौल गरमा गया है। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर है। इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार में सीबीआई का “राजनीतिक प्रतिशोध के हथियार” के तौर पर इस्तेमाल किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रमुख जांच एजेंसी का पतन हो रहा है और वह “खुद से ही जंग लड़ रही है।’’

राहुल ने आरोप लगाया है कि उनके नेतृत्व में सीबीआई राजनीतिक बदला लेने का हथियार बन गया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सीबीआई के दूसरे सबसे बड़े अधिकारी राकेश अस्थाना के खिलाफ एक कारोबारी से रिश्वत लेने के मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई है और इससे साबित हो गया है कि पीएम मोदी जांच एजेंसी का इस्तेमाल राजनीतिक हितों को साधने के लिए कर रहे हैं।

राहुल ने ट्वीट कर लिखा, “प्रधानमंत्री का चहेता व्यक्ति, गोधरा एसआईटी का चर्चित चेहरा, सीबीआई में दूसरे नंबर की हैसियत पाने वाला गुजरात कैडर का अधिकारी, अब रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया।” उन्होंने आगे कहा, “इन प्रधानमंत्री के शासन में सीबीआई राजनीतिक प्रतिशोध लेने का हथियार बन गई है। एक संस्थान जो पतन की ओर बढ़ रहा है वह खुद से ही जंग लड़ रहा है।”

Rahul Gandhi targets PM Modi on rift within CBI

खबर के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष और उनकी पार्टी अस्थाना को सीबीआई का विशेष निदेशक नियुक्त किए जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार हमलावर रही है। बता दें कि, सीबीआई के विशेष निदेशक के खिलाफ मीट कारोबारी मोइन कुरैशी से रिश्वत लेने के मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई है। सीबीआई ने अपने मुख्यालय में तैनात इस दूसरे क्रम के सबसे बड़े अधिकारी के खिलाफ रिश्वत लेने के मामले में प्राथमिकी दर्ज की है।

अधिकारियों ने रविवार को कहा था कि एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए एजेंसी ने एक बिचौलिए से कथित तौर पर तीन करोड़ रुपये रिश्वत लेने के लिए अपने विशेष निदेशक पर मुकदमा दर्ज किया। अस्थाना पर आरोप हैं कि मीट निर्यातक मोइन कुरैशी की संलिप्तता वाले एक मामले की जांच में एक कारोबारी को राहत देने के मकसद से यह रिश्वत ली गई। कारोबारी के खिलाफ जांच अस्थाना ही कर रहे थे।

वहीं, राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने यहां पार्टी मुख्याल में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस प्राथमिकी ने सीबीआई की साख पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को संरक्षण देने वाली सीबीआई अब किस मुंह से भ्रष्टाचारियों के खिलाफ काम करेगी।

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: