Press "Enter" to skip to content

महाराष्ट्र: बाघिन अवनि की मौत को लेकर राहुल गांधी ने BJP सरकार पर साधा निशाना, बोले- ‘देश की महानता की पहचान जानवरों के प्रति व्यवहार से होती है’

Rahul Gandhi on Tigress Avni killing

महाराष्ट्र के यवतमाल जिले के पांढरकवड़ा के वन क्षेत्र में बाघिन अवनि को शुक्रवार (2 अक्टूबर) को देर रात मार दिया गया। बता दें कि, अवनि को आदमखोर घोषित कर दिया गया था क्योंकि उसने 14 लोगों को अपना शिकार बनाया था। उसे खत्म करने के लिए 200 लोगों की टीम लगाई गई थी। खबर के मुताबिक, इस सितंबर महीने में हाई कोर्ट ने कहा था कि उसे गोली मारी जा सकती है, जिसके बाद लोगों ने उसे माफी देने की ऑनलाइन कैंपेन #Justice4TigressAvni भी शुरू किया था।

#Justice4TigressAvni.jpg
#Justice4TigressAvni.jpg

वहीं , बाघित अवनि की मौत को लेकर राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस और शिवसेना ने महाराष्ट्र सरकार पर इसे लेकर सवाल उठाए हैं। बाघित अवनि की मौत पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कड़ी निंदा करते हुए कहा, पशुओं से व्यवहार पर देश की महानता का फ़ैसला किया जाता है।

राहुल गांधी ने महात्मा गांधी के एक संदेश को ट्वीट करते हुए कहा कि “किसी देश कि महानता कि पहचान इस बात से कि जा सकती है कि वहाँ जानवरों के प्रति कैसा व्यवहार किया जाता है। राहुल गांधी ने कि, अवनि हमें माफ करो।

avni
avni

बता दें कि, इससे पहले केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने आदमखोर बाघिन अवनी उर्फ T1 को मारे जाने को लेकर महाराष्ट्र सरकार की कड़ी निंदा की थी। मेनका गांधी ने ट्वीट कर महाराष्ट्र के वन मंत्री सुधीर मुनगनटीवर पर हमला बोला। मेनका ने कहा, “यह कुछ नहीं बल्कि गंभीर अपराध का मामला है।” मेनका ने कहा कि वह मामले को सख्ती से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के समक्ष उठाएंगी। कई हितधारकों के आग्रह के बावजूद मुनगनटीवर बाघिन को मारने का आदेश दिया।

Tigress Avni killing

वहीं, शिवसेना ने भी अवनि की मौत पर सवाल उठाया है। शिवसेना ने कहा कि अवनि की मौत से आहत और दुखी हूँ। अवनि हमें माफ करना। गौरतलब है कि, बाधित अवनि को बचाने के लिए जानवरों के हक में आवाज उठाने वाले लोगों ने अभियान चलाया था। सूप्रीम कोर्ट में इसे लेकर एक याचिका भी डाली गई थी।

Tigress Avni killed
Tigress Avni killed

बता दें कि, पांच साल की बाघिन अवनी की पहचान ‘टी1’ के रूप में की जाती है। अवनी ने महाराष्ट्र के विदर्भ जंगलों में आतंक मचाया हुआ था। कहा जाता है कि, मादा टाइगर को पहली बार यवतमाल जिले के पढ़ाकवाड़ा के जंगलों में देखा गया। तभी उसे इंसानी खून मुह लगा।

इसके बाद उसने लोगों को मारना शुरू किया। स्थानीय लोग खौफजदा रहने लगे। बाघित अवनि के इसी आतंक के बाद प्रशासन ने उसे मारने का फ़ैसला किया। अवनी को यवतमाल जिले के बोराती गांव के निकट करीब तीन महीने बाद शनिवार की सुबह गोली मार दी गई।

#Justice4TigressAvni
#Justice4TigressAvni

अवनी को कैमरा, ड्रोन, प्रशिक्षित खोजी कुत्तों के साथ वन विभाग अधिकारियों व खोजी दल के साथ चलाए गए तीन महीने के अभियान के बाद मारा गया। सूप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक, वन विभाग अधिकारियों को वन्यजीवों को पहले ट्रैंकुलाइज करना होता है, फिर पकड़ना होता है। लेकिन, शनिवार के अभियान के दौरान अवनी ने कथित तौर पर दल पर हमला किया, जिसके बाद उसे गोली मार दी गई। बता दें कि, महाराष्ट्र सरकार द्वारा बाधित अवनी को मारे जाने की राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक की कई बड़ी हस्तियों ने कड़ी निंदा की है।

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: