CBI डीआईजी का सनसनीखेज़ आरोप: मोदी के मंत्री ने ली रिश्वत, अजीत डोभाल ने राकेश अस्थाना के घर छापे मारने से रोका, राहुल बोले- ‘भरोसे टूट गए लोकतंत्र रो रहा है’

0
10
Rahul Gandhi attacks PM Modi on CBI issue
Rahul Gandhi attacks PM Modi on CBI issue

Rahul Gandhi attacks PM Modi on CBI issue

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी केन्द्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की विश्वसनीयता और साख दाव पर लग गई है। सीबीआई के दो वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा एक दूसरे पर लगाए गए भष्टाचार और रिश्वतखोरी के गंभीर आरोपों के बाद एजेंसी में मचे घमासान के बीच हस्तक्षेप को लेकर मोदी सरकार भी विपक्ष के सवालों के घेरे में है। गौरतलब है कि मोदी सरकार ने सीबीआई विवाद में हस्तक्षेप कर रातों रात CBI के निदेशक आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया था। जिसके बाद मामला अब सूप्रीम कोर्ट में चल रहा है।

वहीं, सीबीआई विवाद को लेकर सूप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के बीच सोमवार (19 नवंबर) को सीबीआई के DIG रैंक के वरिष्ठ अधिकारी मनीष कुमार सिन्हा द्वारा कोर्ट में दायर याचिका में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल तथा केन्द्रीय मंत्री हरिभाई पी चौधरी और केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी पर सनसनीखेज आरोप लगने के बाद मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है।

दरअसल, सोमवार को सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा द्वारा दायर याचिका में उन्होंने मोदी सरकार में कोयला एवं खदान राज्य मंत्री हरिभाई पार्थीभाई पटेल पर मोईन कुरैशी मामले में करोड़ों रुपए की रिश्वत लेने के आरोप लगाए हैं। साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल पर सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में कथित हस्तक्षेप के प्रयास करने के सनसनीखेज आरोप लगाया है। इतना ही नहीं, केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (CVC) वी चौधरी पर भी मामले में दखल देने के आरोप लगा है।

बता दें कि सिन्हा, सीबीआई के उन अधिकारियों में शामिल थे जो सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर अस्थाना के ख़िलाफ़ जांच कर रहे थे और बाद में अक्टूबर में उनका अन्य अधिकारियों के साथ तबादला कर दिया गया था।

Rahul Gandhi attacks PM Modi on CBI issue

इसी बीच, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला बोला है।  राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा है, “दिल्ली में ‘चौकीदार ही चोर’ नामक एक क्राइम थ्रिलर चल रहा है। नए एपिसोड में CBI के DIG द्वारा एक मंत्री, NSA, कानून सचिव और कैबिनेट सचिव के खिलाफ गंभीर आरोप हैं। वहीं गुजरात से लाया उसका साथी करोड़ों वसूली उठा रहा है। अफ़सर थक गए हैं। भरोसे टूट गए हैं। लोकतंत्र रो रहा है।”

अजीत डोभाल ने राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में दखलअंदाजी की

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, सीबीआई के डीआईजी एमके सिन्हा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर दावा किया है कि अजीत डोभाल ने राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में दखलअंदाजी की। याचिका में आरोप लगाया गया है कि सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ चल रही जांच में डोभाल ने हस्तक्षेप किया। सिन्हा ने अपनी याचिका में कहा है कि अस्थाना के घर पर सर्च करने से डोभाल ने उन्हें रोका था।

बता दें कि सीबीआई के डीआईजी एमके सिन्हा मीट कारोबारी मोइन कुरैशी केस में सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर 2.95 करोड़ घूस लेने के आरोपों की जांच कर रहे थे। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपनी याचिका में कई सनसनीखेज आरोप लगाए हैं।  याचिका में उनका तबादला नागपुर किए जाने के आदेश को खारिज करने के बारे में तुरंत सुनवाई करने का आरोप लगाया गया है।

मोदी के मंत्री पर  रिश्वत का आरोप

खबर के मुताबिक, अस्थाना की शिकायत करने वाले हैदराबाद निवासी सतीश बाबू सना ने उन्हें यह भी बताया था कि गुजरात से सांसद और मौजूदा कोयला व खनन राज्यमंत्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी को भी कुछ करोड़ रिश्वत दी गई थी। सिन्हा ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (CVC) पर भी दखल के आरोप लगाए। सिन्हा का आरोप है कि जांच में राकेश अस्थाना को मदद पहुंचाने के लिए ही उन्हें नागपुर भेजा गया। मौजूदा कोयला-खनन राज्यमंत्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी को भी कुछ करोड़ रिश्वत दी गई थी। उनके दफ्तर ने ऐसे किसी केस में शामिल होने से इनकार किया है।