Mohan Bhagwat Ram Mandir
Mohan Bhagwat Ram Mandir

Mohan Bhagwat Ram Mandir

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार (15 अप्रैल) को कहा है कि यदि अयोध्या में राम मंदिर ‘फिर से नहीं बनाया गया’ तो ‘हमारी संस्कृति की जड़ें’ कट जाएंगी। भागवत ने पालघर जिले के दहानू में विराट हिंदू सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, आरएसएस प्रमुख ने कहा, ‘भारत में मुस्लिम समुदाय ने राम मंदिर नहीं तोड़ा। भारतीय नागरिक ऐसी चीजें नहीं कर सकते। भारतीयों का मनोबल तोड़ने के लिए विदेशी ताकतों ने मंदिरों को तोड़ा।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन आज हम आजाद हैं। हमें उसे फिर से बनाने का अधिकार है जिसे नष्ट किया गया था, क्योंकि वे सिर्फ मंदिर नहीं थे बल्कि हमारी पहचान के प्रतीक थे।’

भागवत ने कहा कि यदि (अयोध्या में) राम मंदिर फिर से नहीं बनाया गया तो भारत की संस्कृति की जड़ें कट जाएंगी। उन्होंने दावा किया कि इसमें कोई शक नहीं कि मंदिर वहीं बनाया जाएगा, जहां वह पहले था। आरएसएस प्रमुख ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए उन्हें देश के कई हिस्सों में हुई हालिया जातिगत हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया।

ये खबर भी पढ़ें  स्मृति ईरानी का दावा- 'श्रीनगर से लेह सिर्फ 15 मिनट में', लोगों ने किया ट्रोल

रिपोर्ट के मुताबिक, भागवत ने कहा कि, ‘जिनकी दुकानें बंद हो गईं (जो चुनाव में हार गए), वे अब लोगों को जाति के मुद्दों पर लड़ने के लिए उकसा रहे हैं।’ गौरतलब है कि 2 अप्रैल को देशभर में एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित समुदाय के बंद के दौरान हिंसक झड़पें हुई थीं।

अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा लंबे अरसे से देश की राजनीति के केंद्र में है। यह विवाद अभी सुप्रीम कोर्ट में है। हाल ही में आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने इस मामले में दोनों पक्षों से मिलकर समाधान निकालने के लिए पहल की थी।

Mohan Bhagwat Ram Mandir

सोशल मीडिया पर लोगों की तीखी प्रतिक्रिया

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, अयोध्या में राम मंदिर पर RSS प्रमुख भागवत द्वारा दिए बयान को लोगों ने कठुआ गैंगरेप से जोड़ते हुए कड़ी प्रतिक्रिया दी हैं। एक यूजर ने लिखा, मंदिर में एक 8 साल की मासूम बच्ची के बलात्कार से तुम्हारी संस्कृति की जड़े जुड़ रही हैं।’ वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा है, ‘एक और मंदिर बनवाना चाहते हो ताकी अब अयोध्या में कोई आसिफा जैसा केस सामने आए।’

कठुआ गैंगरेप-मर्डर केस-

ये खबर भी पढ़ें  25 दिसंबर से मैजेंटा लाइन पर दौड़ेगी चालक रहित पहली मेट्रो

बता दें कि, कठुआ के गांव रसाना में आठ साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या मामले में आठ आरोपियों के खिलाफ सुनवाई सोमवार (16 अप्रैल) से शुरू होगी। आरोपियों पर आरोप है कि उन्होंने आठ साल की लड़की को जनवरी में एक सप्ताह तक कठुआ जिले के एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया था और उसे नशीला पदार्थ देकर उसके साथ बार बार बलात्कार किया गया और बाद में उसकी हत्या कर दी गई थी। आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल है जिसके खिलाफ एक पृथक आरोपपत्र दायर किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें  लालू यादव को सजा देने वाले जज शिवपाल सिंह को ही नहीं मिल रहा इंसाफ