India

बेरोजगारी को लेकर मोदी के मंत्री ने ही लगा दी मोदी सरकार को फटकार, कहा ये

Modi Sarkar Ko Fatkar

Modi Sarkar Ko Fatkar

Download Our Android App Online Hindi News

रोजगार के मुददे पर विपक्ष ने हमेशा मोदी सरकार की आलोचना की है। नोटबंदी के बाद रोजगार के क्षेत्र में आई मंदी को देखते हुए सरकार के विरोधियों ने हमेशा पीएम मोदी पर निशाना साधा है लेकिन अब खुद मोदी सरकार में श्रममंत्री संतोष गंगवार का मानना है यदी सरकार रोजगार सृजन नहीं कर सकी तो देश की भावी पीढ़िया हमें माम नहीं करेगी।

जुड़ें हिंदी TRN से

PM मोदी के केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा, यदि रोजगार सृजन की दिशा में तुरंत आवश्यक कदम नहीं उठाए गए तो आने वाली पीढियां हमें माफ नहीं करेंगी।

ये खबर भी पढ़ें  कावेरी जल विवाद: SC ने सुनाया बड़ा फैसला, तमिलनाडु को मिलने वाला पानी घटाया, अब कर्नाटक को मिलेगा 14.75 TMC ज्यादा पानी

उन्होंने कहा कि भारत में युवाओं की आबादी दुनिया में सबसे ज्यादा है और प्रत्येक युवा को रोजगार चाहिए. कार्यक्रम में गंगवार ने कहा, यदी रोजगार सृजन की दिशा में तुरंत आवश्यक कदम नहीं उठाए गए तो आने वाली पीढियां हमें माफ नहीं करेंगी। गंगवार ने इस दौरान वीवी गिरी राष्ट्रीय श्रम संस्थान के चार प्रकाशनों को भी जारी किया और संस्थान के मरम्मत के बाद नए तैयार किए गए सेमिनार ब्लॉक का भी उद्घाटन किया।

जबकि इससे पूर्व नीति आयोग ने बेहतर वेतन और उच्च उत्पादक रोजगार को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए कहा था कि देश के समक्ष बेरोजगारी के बजाए गंभीर अर्द्ध -बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या है।

ये खबर भी पढ़ें  देश में डर के माहौल के मारे काजोल को देना पड़ी गौमांस खाने पर सफाई - ममता बनर्जी

आपको बता दे कि देश में रोजगार विहीन वृद्धि के दावे के विपरीत राष्ट्रीय नमूना सर्वे कार्यालय(एनएसएसओ) के रोजगार-बेरोजगार सर्वे में बार-बार कहा जाता रहा है कि तीन दशक से अधिक समय से देश में बेरोजगारी की दर कम और स्थिर है। वर्ष 2017-18 से 2019-20 के तीन साल के कार्य एजेंडा में कहा गया है, ‘‘वास्तव में बेरोजगारी भारत के लिये कम महत्वपूर्ण समस्या है। इसके बजाए अधिक गंभीर समस्या गंभीर अर्द्ध-बेरोजगारी है।’’

इससे पूर्व  भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बेरोजगारी को लेकर कहा कि सबको नौकरी दे पाना संभव नहीं है। इसलिए हम स्कील इंडिया के जरिए लोगों को स्वरोजगार के लिए प्रशिक्षित कर रहे हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि कौशल प्रशिक्षण से स्वरोजगार को बढ़ावा नहीं मिलेगा।

You could follow TR News posts either via our Facebook page or by following us on Twitter or by subscribing to our E-mail updates.

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

To Top