Modi govt granted Vedanta groups proposed university
Modi govt granted Vedanta groups proposed university

Modi govt granted Vedanta groups proposed university

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

मोदी सरकार इन दिनों अमीरों पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान दिखाई दे रही है। खुलने से पहले ही अंबानी के जिओ इंस्टिट्यूट को ‘इंस्टिट्यूट ऑफ़ एमिनेन्स’ का दर्जा दिए जाने के बाद अब सरकार ने वेदांता को ऐसा ही विश्विद्यालय खोलने का अवसर दिया है।

गौरतलब है कि, यह तब हो रहा है  जब जिओ इंस्टिट्यूट को लेकर ही सरकार की देशभर में आलोचना हो रही है। बता दें कि, कुछ दिन पहले ही मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावेडकर ने छह वर्ल्ड क्लास यूनिवर्सिटी बनाने की घोषणा की थी। इनमें तीन सरकारी और तीन प्राइवेट होंगी। इनमें से एक रिलायंस ग्रुप के मालिक मुकेश अम्बानी की यूनिवर्सिटी भी होगी।

ये खबर भी पढ़ें  गुजरात चुनाव: बीजेपी को लगा बड़ा झटका, नाराज कई नेताओं ने दिया इस्तीफा
Modi govt granted Vedanta groups proposed university

न्यूज वेबसाइट बोलता यूपी.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, अम्बानी का जिओ इंस्टिट्यूट कागज़ों के अलावा अभी कही नहीं है। इंस्टिट्यूट की एक दीवार भी खड़ी नहीं हुई है उसके बावजूद सरकार ने इसे आइआइटी दिल्ली और आइआइटी मुंबई जैसे संस्थानों के साथ ‘इंस्टिट्यूट ऑफ़ एमिनेन्स का दर्जा दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार के इस फैसले के बाद उसकी जमकर आलोचना हुई है। इसके बावजूद अब इसी तरह का अवसर सरकार ने वेदांता कंपनी को दिया है। वेदांता ने उड़ीसा में ऐसी ही वर्ल्ड क्लास यूनिवर्सिटी बनाने का प्रस्ताव दिया है।

ये खबर भी पढ़ें  PNB महाघोटाला: सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में मामले की जांच की मांग वाली याचिका का मोदी सरकार ने किया विरोध

वेदांता ने तो रिलायंस की तरह यूनिवर्सिटी के दस्तावेज भी तैयार नहीं किये हैं। इसके बावजूद सरकार ने उसे एक और महीने का समय दस्तावेज जमा करने के लिए दे दिया है।