Press "Enter" to skip to content

#Metoo: मोदी के मंत्री एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा, पीड़ित पत्रकार बोलीं, ‘अष्टमी पर दानव का वध’, कांग्रेस ने बताया ‘सच की जीत’

#Metoo MJ Akbar resigns

देश में चल रहे #Metoo अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) के तहत रोजाना होने वाले खुलासे चौका देने वाले हैं। इस अभियान में यौन उत्पीड़न का शिकार हुई महिलाएं सोशल मीडिया पर सामने आकर अपनी आपबीती बता रही है। साथ ही गुनहगारों का भी पर्दाफाश कर रही है।

एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा

इसी बीच, #Metoo के तहत यौन उत्पीड़न और अनुचित व्यवहार के गंभीर आरोपों से घिरे  पूर्व संपादक और विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने आखिरकार बुधवार (17 अक्टूबर) को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा कि, ‘चूंकि मैंने निजी तौर पर कानून की अदालत में न्याय पाने का फैसला किया है, इसलिए मुझे यह उचित लगा कि मैं अपने पद से इस्तीफा दे दूं।’

मुझे यह उचित लगा कि पद छोड़ दूं और अपने ऊपर लगे झूठे इल्ज़ामों का निजी स्तर पर ही जवाब दूं। इसलिए मैंने विदेश राज्य मंत्री के पद से अपना इस्तीफ़ा दे दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एमजे अकबर का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।

बता दें कि अकबर पर 20 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। अकबर के इस्तीफे के बाद पीड़ित महिला पत्रकार,  कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी के नेताओं के साथ-साथ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि अकबर को पहले ही इस्तीफा देना चाहिए था।

महिला पत्रकारों ने जताई खुशी-

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, अकबर के खिलाफ यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ के आरोप लगाने वाली महिला पत्रकारों ने विदेश राज्य मंत्री पद से उनके इस्तीफे के बाद बुधवार को खुशी जाहिर की।

अकबर के खिलाफ सबसे पहले आरोप लगाने वाली और मानहानि के मुकदमे का सामना कर रहीं पत्रकार प्रिया रमानी ने अकबर के इस्तीफे के बाद कहा, “उनके रुख की पुष्टि हुई।”

रमानी ने ट्वीट किया, “एक महिला के तौर पर, एम.जे. अकबर के इस्तीफे से हम सही साबित हुए हैं। मैं उस दिन की ओर देख रही हूं, जब मुझे अदालत से भी न्याय मिलेगा।”

पत्रकार सुपर्णा शर्मा ने अकबर पर ‘उनकी ब्रा की स्ट्रेप खींचने का आरोप लगाया है।’ सुपर्णा ने कहा है कि उनके इस्तीफे से ही लड़ाई समाप्त नहीं हुई है।

#Metoo MJ Akbar resigns

समाचार एजेंसी IANS के मुताबिक, शर्मा ने रविवार को अकबर के बयान के संदर्भ में कहा, “अकबर को बयान देने के बदले भारत पहुंचते ही तत्काल इस्तीफा देना चाहिए था।”

उन्होंने कहा, “जब उन्होंने बयान जारी किया था, ऐसा लगता था कि यह प्रिया रमानी बनाम सरकार है, अब उन्होंने इस्तीफा दे दिया है, इसलिए यह अकबर बनाम प्रिया रमानी है।” उन्होंने साथ ही कहा कि पूर्व मंत्री को रमानी के खिलाफ मानहानि के मामले को वापस ले लेना चाहिए।

अकबर को ‘हिंसक’ करार देने वाली पत्रकार सबा नकवी ने कहा, “महाअष्टमी पर देवी दुर्गा ने राक्षस का खात्मा किया, एमजेअकबर गए..” इसके अलावा पत्रकार गजाला वहाब ने कहा कि उन्हें अकबर के इस्तीफे की खबर पर पहली बार में यकीन नहीं हुआ था।

उन्होंने बीबीसी से कहा कि मैंने दो-तीन जगह से खबर की पुष्टि की। इस खबर को सुनकर मुझे बहुत ही ज्यादा खुशी हो रही है।

कांग्रेस ने बताया ‘सच की जीत’

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने यौन शोषण के आरोपों से घिरे एमजे अकबर के विदेश राज्य मंत्री पद से इस्तीफा दिए जाने को ‘सच की ताकत की जीत’ करार दिया। उन्होंने कहा कि वह उन महिलाओं को सलाम करती हैं, जिन्होंने आवाज उठाई थी।

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा कि केंद्रीय राज्य मंत्री के पद से एमजे अकबर का इस्तीफा देश में चल रहे ‘मीटू’ आंदोलन की बड़ी जीत है। उन्होंने यह भी दावा किया कि यह इस्तीफा देर से आया है और नरेंद्र मोदी सरकार ने चेहरा बचाने की कोशिश में यह कदम उठाया है. उन्होंने कहा- ‘अकबर का इस्तीफा पहले हो जाना चाहिए था। यह देर से आया इस्तीफा है।

AAP और समाजवादी पार्टी ने देर से इस्तीफा देने पर उठाए सवाल- 

उधर, आम आदमी पार्टी (आप) के प्रवक्ता दिलीप पांडे ने कहा, ‘अकबर का इस्तीफा ही पर्याप्त नहीं है और उनके खिलाफ लगे आरोपों की गंभीरता को देखते हुए उनके खिलाफ आपराधिक प्रक्रिया को शुरू किया जाना चाहिए।’

समाजवादी पार्टी (सपा) ने अकबर के इस्तीफे को देर से उठाया गया कदम बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आरोप लगने के तुरंत बाद उन्हें मंत्रिपरिषद से बर्खास्त कर देना चाहिये था।

सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा, ‘लोकतंत्र में लोकलाज का महत्वपूर्ण स्थान है. लोकलाज के बिना ‘लोकराज’ नहीं चलता है। देर से दिया गया अकबर का इस्तीफा यह साबित करता है कि भाजपा सरकार ने लोकलाज भी त्याग दी है।’

 

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: