Mehbooba Mufti seeks fast track court
Mehbooba Mufti seeks fast track court

Mehbooba Mufti seeks fast track court

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कठुआ में  8 वर्षीय बच्ची से बलात्कार और हत्या के मामले की सुनवाई के लिए आज जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिख कर ‘फास्ट ट्रैक’ कोर्ट गठित करने का अनुरोध किया है।

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने इस मामले में मुख्य न्यायाधीश से फास्ट ट्रैक कोर्ट गठित करने का अनुरोध किया। उन्होंने बताया कि यह अदालत 90 दिनों में मामले की सुनवाई पूरी कर लेगी और राज्य में यह इस तरह की पहली अदालत होगी। उन्होंने सांप्रदायिक ताकतों को खारिज करने के लिए जम्मू के लोगों की सराहना भी की।

ये खबर भी पढ़ें  योगी साबित करें, क्या सूबे में दलित, पिछड़ा और मुसलमान ही अपराधी है- रिहाई मंच

वहीं मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार (14 अप्रैल) को बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या किए जाने के मामले में आरोपी चार पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया है। बता दें कि महबूबा के पास गृह मंत्रालय का प्रभार भी है। समाचार एजेंसी IANS को सूत्रों ने बताया है कि राज्य सरकार ने मामले में आरोपी एक उप निरीक्षक, एक हवलदार और दो विशेष पुलिस अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया है।

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के मुताबिक, कठुआ गैंगरेप-हत्या मामले में हेड कांस्टेबल, एक सब-इंस्पेक्टर, दो विशेष पुलिस अधिकारी सहितआठ लोग गिरफ्तार किए गए और उनमें से सात के खिलाफ आरोप दायर किया गया है। इस मामले के विरोध में हुई रैली में शामिल होने के बाद बीजेपी के दो मंत्रियों चौधरी लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा ने पद से इस्तीफा दे दिया।

ये खबर भी पढ़ें  गुजरात में 75,000 व्यापारियों ने BJP से दिया इस्तीफा,बोले- अब जुल्म नहीं सहेंगे

Mehbooba Mufti seeks fast track court

 परिवार की मांग- दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी हो!

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, कठुआ जिले के बहुचर्चित बलात्कार और हत्याकांड की आठ वर्षीय पीड़िता के परिवार की मांग है कि दोषियों को फांसी की सजा दी जाए। पीड़िता की मां ने कहा, ‘वह बहुत खूबसूरत और समझदार थी। मैं चाहती थी कि वह बड़ी होकर डॉक्टर बने।’ शोक में डूबी पीड़िता की मां ने दोषियों के लिए मौत की सजा की मांग की। उन्होंने कहा, ‘मेरी एक ही इच्छा है कि दोषियों को इस जघन्य अपराध के लिए फांसी दी जाए, ताकि किसी और परिवार को इससे गुजरना नहीं पड़े।’

ये खबर भी पढ़ें  भरूच में मोदी को दिखाए काले झण्डे, मछुआरे गिरफ्तार, गोदी मीडिया से खबर गायब

कठुआ जिले के रसाना गांव में पीड़िता के मामा-मामी ने उसे तब गोद लिया था जब वह एक साल की थी। अब भी सदमे में नजर आ रही पीड़िता की मां ने अपनी बच्ची को अपने भाई के घर छोड़ने के लिए खुद को कोसा। उन्होंने कहा, ‘उसे मारा क्यों गया? वह तो मवेशियों को चरा रही थी और घोड़ों की देखभाल कर रही थी। वह आठ साल की थी। उन्होंने इतने बुरे तरीके से उसे क्यों मारा?