Mahatma Gandhi statue damaged
Mahatma Gandhi statue damaged

Mahatma Gandhi statue damaged

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की जीत के बाद से भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। सबरंग की रिपोर्ट के मुताबिक, गत चार दिनों में साढ़े पांच सौ वामपंथी पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले हुए हैं। 16 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं के घरों में तोड़फोड़ की गई है और 200 घरों को जला दिया गया है। 145 पार्टी कार्यालयों पर हमले और तोड़फोड़ तथा 235 कार्यालयों पर जबरन कब्जा कर लिया गया है। वहीं, देश  के अलग-अलग हिस्सों में मूर्तियों को तोड़े जाने का उपद्रव जारी है।

उमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक, केरल के कन्नूर क्षेत्र में थालीपराम्बा में महात्मा गांधी की मूर्ति पर अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया है। मूर्ति के चश्मे को तोड़ दिया गया है। तमिलनाडु के चेन्नई के तिरुवोत्तियोर में अज्ञात लोगों ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की मूर्ति पर पेंट पोत दिया है।

बता दें कि त्रिपुरा में 25 सालों से माकपा सत्ता में थी। 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर देश के हिस्सों में इसी के विरोध में हिंसा, मारपीट, आगजनी और तोड़-फोड़ शुरू हो गई थी। मूर्ति तोड़ने की सियासत भी यहीं से शुरू हुई।

ये खबर भी पढ़ें  कर्नाटक के मंत्री बोले- 'BJP के लोगों को नहीं आती 'अंग्रेजी', सर्कुलर नहीं रिमाइंडर है'

गौरतलब है कि सबसे पहले त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति पर बुल्डोजर चला दिया गया था। फिर तमिलाडु में हथौड़े के जरिए पेरियार की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया। दक्षिण कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर स्याही फेंकी गई थी। इसके बाद मेरठ में अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने की खबर आई। मवाना क्षेत्र में हुई घटना को लेकर दलितों के एक गुट ने विरोध किया। काफी हंगामे के बाद प्रशासन ने मूर्ति फिर से लगवाने का आश्वासन दिया।

ये खबर भी पढ़ें  दिल्ली: केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, अब राशन के लिए अनिवार्य नहीं होगा ‘आधार कार्ड’

वहीं, देश भर में मूर्ति तोड़े जाने के चल पड़े सिलसिले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसपर अपनी नाराजगी जाहीर की है। गृह मंत्रालय को उन्होंने इस बारे में तलब किया और सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए है। पीएम के निर्देश पर मंत्रालय ने सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी की, जिसमें कहा गया है कि ऐसी घटनाओं पर उचित कार्रवाई की जानी चाहिए।