Karti Chidambaram saidKarti Chidambaram said
Karti Chidambaram said

Karti Chidambaram said

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने बेहद अजीबोगरीब सलाह देते हुए कहा है कि अगर कोई अपना वजन कम करना चाहता है, तो उसे जिम जाने या डाइट पर रहने की कोई जरूरत नहीं है। वो सिर्फ CBI की हिरासत में रहें और CBI कैंटीन का खाना खाएं। दरअसल, क्रांति चिदंबरम को भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किया गया था और वो 12 दिनों तक सीबीआई की हिरासत में थे।

NDTV रिपोर्ट के मुताबिक, 48 वर्षीय बिजनेसमैन  क्रांति चिदंबरम को सोमवार को 24 मार्च तक दिल्ली के तिहाड़ जेल में भेज दिया गया है। कार्ति चिदंबरम ने एनडीटीवी को विशेष अदालत के आदेश का इंतजार करते हुए कहा, “मैंने अपनी भूख को खो दिया है और बहुत कम खा रहा हूं, जिसके कारण मेरा वजन बहुत कम हो गया है और यह अच्छा भी है।”

ये खबर भी पढ़ें  पूर्व IPS वंजारा का सनसनीखेज दावा, 'इशरत जहां केस में नरेंद्र मोदी से हुई थी पूछताछ'

“मुझे कपड़े के एक नए सेट की आवश्यकता है क्योंकि मेरे सभी पुराने कपड़े ढीले हो गए हैं। उन्होंने आगे हंसते हुए कहा कि यदि कोई अपना वजन कम करना चाहता है तो उन्हें बस सीबीआई डायल करना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सीबीआई की हिरासत में, उन्हें फोन या यहां तक कि एक घड़ी की अनुमति नहीं थी. यह अच्छा अनुभव था. मैं अधिकारियों से पूछता था कि समय क्या हुआ है।”

Karti Chidambaram said

हालांकि, कार्ती चिदंबरम ने कहा कि उनके पास सीबीआई अधिकारियों के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है। उन्होंने कहा, “उन्होंने मेरे साथ सबसे अधिक पेशेवर तरीके से पूछताछ की।”

ये खबर भी पढ़ें  CM अरविंद केजरीवाल ने राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर दी बधाई

रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली की एक अदालत ने कार्ति चिदंबरम को सोमवार आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में 24 मार्च तक 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अदालत ने उन्हें खतरे के कारण तिहाड़ जेल में अलग कोठरी उपलब्ध कराने का उनका अनुरोध भी ठुकरा दिया। अलग कोठरी और बाथरूम के कार्ति के अनुरोध को खारिज करते हुए विशेष न्यायाधीश सुनील राणा ने कहा कि केवल उनके तथा उनके पिता पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी चिदंबरम के सामाजिक ओहदे के कारण उनके साथ अन्य आरोपियों से अलग व्यवहार नहीं किया जा सकता।

ये खबर भी पढ़ें  चुनाव प्रचार और सरकार बनाने से समय बचे तो प्रधान सेवक जी थोड़ा SSC पेपर लीक मामले में जांच के लिए आंदोलन कर रहे छात्रों पर भी ध्यान दे लें।