‘मंत्रियों की सुविधाएं बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ने वाली मोदी सरकार ने आज सैनिकों का वेतन बढ़ाने की माँग को ठुकरा दिया, मगर इस सरकार को शर्म नहीं आती’- कन्हैया कुमार

0
12
Kanhaiya Kumar targets Modi Govt
Kanhaiya Kumar targets Modi Govt

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने सशस्त्र बलों के एक लाख से अधिक जवानों को ज्यादा सैन्य सेवा वेतन (एमएसपी) दिए जाने की मांग को आज (6 नवंबर) को खारिज कर दिया है। जिसके बाद सैन्‍यकर्मियों में भारी नाराजगी है।

जी हाँ, न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, केंद्र की मोदी सरकार ने सेना के करीब 1.12 लाख जवानों की एक अहम मांग को मानने से इनकार कर दिया है। इस वजह से सैन्‍यकर्मियों में नाराजगी है। दरअसल, वित्‍त मंत्रालय ने सैनिकों की मिलिट्री सर्विस पे (MSP)दिए जाने की बहुप्रतीक्षित मांग खारिज कर दी है।

वित्त मंत्रालय के इस फैसले से थलसेना में नाराजगी है। थलसेना इस मामले की तुरंत समीक्षा की मांग करेगी। वहीं रक्षा मंत्रालय भी इस फैसले से क्षुब्ध बताया जा रहा है। सरकार के इस फैसले से 87,646 जूनियर कमीशंड अफसर (जेसीओ) के अलावा नौसेना और वायुसेना में समकक्ष 25,434 कर्मियों सहित करीब 1.12 लाख सैन्यकर्मी इस फैसले से प्रभावित होंगे।

पीटीआई के मुताबिक मासिक एमएसपी 5,500 रुपये से बढ़ाकर 10,000 रुपये करने की मांग थी। यदि सरकार ने मांग मान ली होती तो उसे हर साल 610 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ते।

गौरतलब है कि, मोदी सरकार ने 3000 करोड़ रुपए की लगात से गुजरात में दुनिया की सबसे बड़ी सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति बनाई है। इसे स्टैच्यू ऑफ यूनिटी नाम दिया गया है। आज इसी सरकार ने देश की सुरक्षा के लिए मर मिटने वाले जवानों को ज्यादा सैन्य सेवा वेतन (एमएसपी) दिए जाने की मांग को खारिज कर दिया। अगर सरकार ने मांग मान ली होती तो उसे हर साल 610 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ते।

इसी बीच, जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने मोदी सरकार द्वारा सशस्त्र बलों के एक लाख से अधिक जवानों को ज्यादा सैन्य सेवा वेतन (एमएसपी) दिए जाने की मांग को खारिज किए जाने को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा है।

कन्हैया कुमार ने ट्वीट कर लिखा, अंबानी-अडानी को फ़ायदा पहुँचाने का कोई मौका नहीं छोड़ने वाली मोदी सरकार ने सैनिकों का वेतन बढ़ाने की माँग को ठुकरा दिया है। इसी सरकार ने मंत्रियों की सुविधाएँ बढ़ाने में कभी कोई कसर नहीं छोड़ी है। शर्म इस सरकार को मगर नहीं आती…

बता दें कि, इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सशस्त्र बलों के एक लाख से अधिक जवानों को ज्यादा सैन्य सेवा वेतन (एमएसपी) दिए जाने की मांग को सरकार द्वारा खारिज करने को लेकर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि उन्हें सर्जिकल स्ट्राइक करने वाले जवानों की नहीं, बल्कि ‘सूटबूट वालों की दुकानों’ की फिक्र है।

राहुल गांधी ने बुधवार (5 दिसंबर) को एक खबर शेयर करते हुए फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘मोदी जी, जिन्होंने देश के लिए सर्जिकल स्ट्राइक किया, उनके लिए आपका ये बर्ताव है?’’ साथ ही उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘आपको (मोदी) ना किसान की फ़िक्र है, ना जवान की, आपको फ़िक्र है सिर्फ़ अनिल अंबानी जैसे सूट-बूट वालों की दुकान की। आपको देश ने मौक़ा दिया। आपने देश को धोखा दिया।’’