Gujarat BJP vice president Jayanti Bhanushali resigns
Gujarat BJP vice president Jayanti Bhanushali resigns

Gujarat BJP vice president Jayanti Bhanushali resigns

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

गुजरात के बीजेपी उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक जयंती भानुशाली ने बलात्कार का आरोप लगने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि, 53 वर्षीय जयंती भानुशाली गुजरात के कच्छ जिले के रहने वाले हैं।

समाचार एजेंसी भाषा के हवाले से एक न्यूज़ वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, जयंती भानुशाली ने राज्य बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी को भेजे अपने इस्तीफे में इस आरोप से इनकार करते हुए दावा किया है कि उनकी छवि को खराब करने की साजिश हो रही है। बीजेपी ने एक बयान में दावा किया कि राज्य बीजेपी अध्यक्ष ने भानुशाली का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।

ये खबर भी पढ़ें  जिग्नेश मेवाणी का PM मोदी पर तंज: 'नास्त्रेदमस ने कहा था दुनिया का बेस्ट एक्टर भारत से होगा'

भानुशाली ने अपने इस्तीफा पत्र में कहा, ‘ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस को दिये गया आवेदन मेरी छवि खराब करने की साजिश है मेरे और मेरे परिवार के ऊपर लगाए गए आरोप आधारहीन है। जब तक मैं अपने ऊपर लगे आरोपों से मुक्त होकर बाहर नहीं निकल जाता हूं , मैं पार्टी से अपील करता हूं कि वह मुझे जिम्मेदारियों से मुक्त करे।’

Gujarat BJP vice president Jayanti Bhanushali resigns

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सूरत की रहने वाली 21 साल की एक युवती ने आरोप लगाया है कि फैशन डिजायनिंग के एक कोर्स में ऐडमिशन दिलाने के नाम पर बीजेपी नेता ने उसके साथ कई बार रेप किया। युवती ने बीजेपी नेता पर आरोप लगाया है कि उसने पिछले नवंबर से अब तक उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया।

ये खबर भी पढ़ें  कर्नाटक: अल्पसंख्यकों के खिलाफ दर्ज सांप्रदायिक केस होंगे वापस

टाइम्स न्यूज नेटवर्क के हवाले से NBT में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार(10 जुलाई) को पीड़ित युवती ने सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा और वराछा पुलिस थाने में अपनी शिकायत सौंपी थी। साथ ही उसने अपने परिवार और खुद की जान को खतरा जताते हुए पुलिस सुरक्षा की मांग की है। बताया जा रहा है कि, अहमदाबाद में फैशन डिजाइनिंग के एक कोर्स में ऐ़डमिशन लेने की इच्छा जताने के बाद युवती के एक रिश्तेदार ने उसे जयंती भानुशाली से मिलवाया था।

ये खबर भी पढ़ें  ओवैसी ने भागवत के बयान पर कहा - 'धर्म और आस्था के आधार पर नहीं बन सकते कानून'