Demonetisation backfire
Demonetisation backfire

बीजेपी आईटी सेल को अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार विजेता घोषित “रिचर्ड थैलेर” के इस ट्वीट को खोजने में बहुत खुशी हुई होंगी । थैलेर असल में कम नकदी अर्थव्यवस्था के लंबे समय से समर्थक रहे है। परंतु भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवी ने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते वक़्त जल्दी कर दी और रिचर्ड थैलेर द्वारा किए गए ट्वीट को रीट्वीट कर दिया जिसके दौरान मालवीय ने एक बेहद शर्मनाक मुद्दे को नज़र अंदाज कर दिया ।

Amit Malviya Tweet
Amit Malviya Tweet

रिचर्ड थैलेर के पहले ट्वीट से यह मालूम होता है की उन्हें लगा की सभी बड़े नोट बंद किए जा रहे है जो कैशलेस इकोनॉमी की तरफ पहला कदम है ,परंतु उन्हें जब यह पीटीए चला कि 500 व 1000 की नोट को बंद करके 2000 की नोट को लाया जा रहा है तो रिचर्ड थैलेर ने कहा कि ”Really? Damn.“”सच में? लानत है” । उनकी इस प्रतिक्रिया से यह पता चलता है कि कैशलेस अर्थव्यस्था और भ्रष्टाचार में कमी की तरफ उठाया गए कदम को देखने की खुश उनकी बस कुछ ही समय के लिए थी ।

ये खबर भी पढ़ें  टाइम्स ऑफ इंडिया (TOI) ने हटाई भाजपा को एक्सपोज़ करने वाली खबर।
Richard H Thaler tweet
Richard H Thaler tweet

अमित मालवीय ने जो आधी तस्वीर को पोस्ट किया था उसे सबने सच मानकर अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया । सिर्फ बीजेपी समर्थक ही नहीं बल्कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं द्वारा भी ट्वीट किए गए । हालांकि केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बीजेपी आईटी सेल के पूर्व प्रमुख अरविंद गुप्ता, बीजेपी मुंबई के प्रवक्ता सुरेश नकुआ जैसे कई नेता भी इसमें शामिल है ।

Giriraj Singh
Giriraj Singh
Arvind Gupta tweet
Arvind Gupta tweet
Richard H Thaler tweet.
Richard H Thaler tweet.

आपकों बता दें कि  अमित मालवीय को कई बार गलत और भ्रामक जानकारी के लिए सूचित भी किया गया था लेकिन फिर भी उनके द्वारा अपना ट्वीट नहीं हटाया गया । हालांकि पीयूष गोयल जी ने भी अमित मालवीय के गलत ट्वीट पर रीट्वीट कर दिया था और जब उन्हें इस बात की जानकारी दे गई तो उन्होंने अपने ट्वीट को हटा दिया ।

इतना ही नहीं भाजपा समर्थकों ने तो भारत के अपने नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन को नीचा दिखाते हुये थैलेर के ट्वीट को पोस्टर में बदल दिया ।

ये खबर भी पढ़ें  VIDEO: भाषण के बीच माइक हुआ बंद तो मजाकिया लहजे में बोले राहुल गांधी- अमित शाह जी ने माइक ऑफ कर दिया
Winner Of Nobel Prize
Winner Of Nobel Prize

हालांकि कुछ नोटबंदी प्रशंसक द्वारा प्रसिद्ध अर्थशास्त्री को नीचा दिखाते हुए , रघुराम राजन को भी बदनाम किया गया । उनके लिए जो इस बात से अनजान है कि थैलेर, शिकागो विश्वविद्यालय के बूथ स्कूल के प्रोफेसर, अपने सहयोगी राजन के बारे में ये कहते हैं कि “भारत का नुकसान हमारे लिए लाभ है। रघु को वापस पा के बहुत अच्छा होगा।

Raghuram Rajan
Raghuram Rajan

थैलेर के अवधारणा में 500 और 1000 के नोट को प्रचलन से हटाना कम नकदी डिजिटल अर्थव्यवस्था को बड़ावा देने की दिशा के तौर पर देखा जा सकता है। क्योंकि थैलेर कैशलेस इकोनॉमी के समर्थक हैं इसी वजह से थैलेर के आर्थिक नीति में 2000 रुपये के नोट की शुरुआत करना सही नहीं है । थैलेर के अर्थशास्त्र के संदर्भ में नोटबंदी को कैसे देखा जा सकता है इस बात की चर्चा अर्थशास्त्री कर सकते हैं ।

ये खबर भी पढ़ें  15 साल के भारतीय उसेन बोल्ट को ओलिंपिग का सपना पूरा करने के लिए मदद की जरूरत

इस बात से बाकी के लोंग खुश हो सकते है कि कैसे बीजेपी के कुछ समर्थक थैलेर के अधूरे कथन को एक-दूसरे से साझा करने में लगे है बिना यह जाने कि उस नोटबंदी चर्चा के अंत में रिचर्ड थैलेर ने “damn” कहा था। जबकि इसका अर्थ समर्थन करना बिलकुल भी नहीं होता है ।