CM Yogi ki sabha me hangama
CM Yogi ki sabha me hangama

CM Yogi ki sabha me hangama

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

उत्तर प्रदेश। उन्नाव गैंगरेप मामले में आरोपी BJP विधायक कुलदीप सिंह सेगर का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ हैं कि इसी बीच एक महिला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास बीजेपी विधायक की शिकायत करने पहुंच गई। लेकिन, पुलिसकर्मियों ने महिला को CM योगी से नहीं मिले दिया।

दरअसल, CM योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के जालौन में एक कार्यक्रम में पहुंचे थे। इसी दौरान एक महिला योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंच गई। हालांकि महिला को सीएम योगी से मिलने नहीं दिया गया और वहां मौजूद पुलिसकर्मी ने महिला को घटनास्थल से धकियाते हुए अलग ले गए।

वहीं, इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल गया है। वीडियो में दिख रहा है कि, महिला किस तरह से रोते हुए सीएम से मिलने की गुहार लगा रही है, लेकिन पुलिसकर्मियों पर इसका कोई असर नहीं हुआ और वह उसे पकड़कर ले गए। वहीं जब यह सब हंगामा हो रहा था, तो कार्यक्रम में सीएम योगी आराम से भाषण दिए जा रहे थे।

CM Yogi ki sabha me hangama

हिंदी न्यूज पोर्टल ‘वन इंडिया’ के हवाले से जनता का रिपोर्टर में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि हमीरपुर स्थित जखेता गांव की रामन देवी उर्फ प्रेमलता ने आरोप लगाया है कि उसके पिता की 50 बीघा जमीन पर विधायक अशोक चंदेल का कब्जा है। प्रभावी विधायक के दबाव में प्रशासन है, ऐसे में उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। पुलिस ने पहले उसे ढकेल कर सभा स्थल से खदे़ड़ा और फिर सीएम का कार्यक्रम पूरा होने तक अपने पास ही रखा।

ये खबर भी पढ़ें  .....जब केरल बाड़ पीड़ितों को बचाने के लिए NDRF कर्मी ने अपने शरीर को बना दी सीढ़ी, देखिए वायरल वीडियो!

रिपोर्ट के मुताबिक, महिला की शिकायत पर एसडीएम राहुल यादव ने कहा कि विधायक पर लगाए गए आरोपों की जांच होगी। उन्होंने कहा कि प्रेमलता का उनके भाई से जमीनी विवाद है। अब जबकि उन्होंने विधायक पर आरोप लगाए हैं तो उसकी जांच होगी।

रिपोर्ट के मुताबिक, जिस बीजेपी विधायक अशोक चंदेल पर आरोप लगाए गए हैं, उन पर पहले से 21 आपराधिक मामले दर्ज हैं। अब तक 4 बार विधायक रहे चंदेल साल 1989 में पहली बार निर्दलीय विधायक चुने गए चंदेल साल 1999 में बसपा के टिकट से सांसद भी चुने गए थे। साल 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में उन्हें बीजेपी ने टिकट दिया था।

ये खबर भी पढ़ें  बीजेपी ने EVM वाले इलाके पर जीती 46% सीटें, वहीं मत-पत्र वाले इलाके पर सिर्फ 15%