Press "Enter" to skip to content

किसानों की फसलों को नष्ट कर जमीन पर कब्जा कर रही है भाजपा सरकार, नाराज ग्रामीणों ने बोर्ड पर लिखा- ‘BJP वालों का आना सख्त मना है’

BJP members entry strictly prohibited

सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेतृत्व वाली नरेंद्र मोदी सरकार के राज में देश भर में किसान परेशान और मुश्किलों में है। फसलों के सही दाम नहीं मिल पाने और कर्जमाफी को लेकर विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर है। साथ ही, बीजेपी सरकार किसानों की परेशानियों को दूर करने के बजाए उल्टा अपने कथित विकास कार्यों के लिए किसानों की ज़मीनों पर कब्जा कर रही है।

farmers protest
farmers protest

इतना ही नहीं, जब किसान अपने हक के लिए आवाज बुलंद करता है तो उसपर लाठीचार्ज, और आँसू गैस के गोले छोड़ कर बर्बरतापूर्वक बर्ताव किया जा रहा है। गौरतलब है कि विपक्ष हमेशा से ही यह आरोप लगाता रहा है कि ‘बीजेपी सरकार-किसान विरोधी है’, आज विपक्ष के यह आरोप भी सच साबित हो रहे है।

गौरतलब है कि, हाल ही में विभिन्न मांगों को लेकर हरिद्वार से दिल्ली पहुंचे किसानों को मोदी सरकार ने दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर ही रोक दिया गया था। इस दौरान जब शांति और बिना हथियार के किसानों ने अंदर आने की कोशिश की तो उनके साथ बुरा बर्ताव किया गया। किसानों पर लाठी चार्ज किया गया। उनपर आंसू गैस के गोले छोड़े गये। मोदी सरकार का किसानों के साथ यह रवैया बेहद शर्मनाक था।

वहीं, बीजेपी सरकार के खिलाफ किसानों में नाराजगी साफ तौर पर नजर आ रही है। दरअसल, उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा के एक गांव वालों को सत्तारूढ़ बीजेपी के नेताओं से इतनी नाराजगी है कि उन्होंने गांव के बाहर एक बोर्ड लगाया है जिसमें भगवा पार्टी के नेताओं को बताया है कि उनको इस गांव में आने की अनुमति नहीं है। 

यह बोर्ड कथित तौर पर स्थानीय प्रशासन और रियलिटी ग्रुप के कर्मचारियों द्वारा किसानों की तैयार फसल को नष्ट करने के बाद रविवार को लगाया गया है। जिस गांव के बाहर यह बोर्ड लगाया गया है उस गांव को बीजेपी सांसद और केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्री महेश शर्मा ने गोद लिया हुआ है।

1
1

ग्रेटर नोएडा के गांव कचैड़ा वसाराबाद गांव के किसानों ने आरोप लगाया था कि स्थानीय प्रशासन ने रियल्टी फर्म के साथ मिलकर हमारे लाखों की फसल बरबाद कर दी है और जब उन्होंने विरोध किया तो उन पर लाठीचार्ज कराया गया। गांव के बाहर एक बोर्ड लगाकर लिखा है कि ‘ग्राम कचैड़ा वसाराबाद गौतमबुद्धनगर, सांसद महेश शर्मा द्वारा गोद लिया गया गांव। बीजेपी वालों का इस गांव में आना मना है- समस्त ग्रामवासी।’

BJP members entry strictly prohibited

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, कचैड़ा गांव के किसान तेजिंदर नागर ने बताया कि ‘पांच दिन पहले 25-30 खुदाई मशीनों से इन लोगों ने हमारी फसलों को खोद डाला, जो हमने छह महीने पहले बोई थीं। इस पूरे इलाके को 100 से ज्यादा पुलिस वालों ने घेर रखा था, ताकि हम उन्हें रोक न पाएं। जब हमने सवाल पूछा तो हमपर लाठी बरसाई गई।

गांव वालों और इस रियल्टी ग्रुप में काफी लंबा विवाद है। इस ग्रुप ने 2005-2006 में स्थानीय किसानों से जमीन खरीदी थी। ग्रामीणों का कहना है कि कंपनी ने तबसे यहां किसी भी तरह का कोई काम शुरू नहीं किया इसलिए वे यहां पहले की तरह खेती करते रहे। लेकिन इस बार कंपनी वाले अचानक पहुंच गए और उनकी लाखों की फसल बरबाद कर दी। गांव वालों का कहना है कि कंपनी ने उन्हें इसके पहले कोई नोटिस भी नहीं दिया था।

स्थानीय लोगों ने दावा किया कि उन्होंने सांसद महेश शर्मा से संपर्क करने की कोशिश की ताकि इस समस्या को सुलझाया जा सके। लेकिन उनका फोन ऑफ है और किसी चिट्ठी का जवाब नहीं दे रहे हैं, जिसके बाद उन्होंने गुस्से में ये बोर्ड लगाया है। वहीं, बीजेपी नेता महेश शर्मा ने इसे राजनीतिक विरोधियों की साजिश बताया। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों के लिए मैं राज्य से बाहर हूं। मैं किसानों के साथ हूं और कुछ ही समय में उनकी सभी समस्याओं को दूर कर दूंगा।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, महेश शर्मा ने कहा, ‘मैं अपने गांव को अच्छी तरह से जानता हूं। यह एक खास व्यक्ति का काम है, जो राजनीति से प्रेरित है। सपा के एक नेता को हिरासत में लिया गया था। कुछ दिनों के लिए मैं राज्य से बाहर हूं। मैं किसानों के साथ हूं और कुछ ही समय में उनकी सभी समस्याओं को दूर कर दूंगा।’

 

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: