Bhim army raise question over Chandrashekhar jail security
Bhim army raise question over Chandrashekhar jail security

Bhim army raise question over Chandrashekhar jail security

Install Ravish Kumar App

Install Ravish Kumar App Ravish Kumar.

उत्तर प्रदेश में रामराज्य लाने की बात करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राज में महिलाएं, दलित, अल्पसंख्यक तो पहले से ही असुरक्षित थे, लेकिन अब जेलों में बंद कैदी भी सुरक्षित नहीं हैं।

कड़ी सुरक्षा के बीच में मुन्ना बजरंगी को मार दिया जाता है। यहाँ बात अपराधी को मारने भर तक ही सीमित नहीं है बल्कि जेलों की सुरक्षा को लेकर चिंता भी है।

ऐसे में बागपत जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद जेल में बंद भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर पर हमले की आशंका जताई जा रही है। भीम आर्मी ने चंद्रशेखर की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है।

ये खबर भी पढ़ें  इकोनॉमी के बारे में झूठ बयानों और फर्जी आंकड़े: भाजपा नेता कर रहे देश को गुमराह

न्यूज वेबसाइट बोलता यूपी.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, भीम आर्मी ने फेसबुक के ज़रिए कैदियों की जेल में सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े किए। भीम आर्मी के ऑफ़िशियल अकाउंट से लिखा गया, “बजरंगी को उत्तर प्रदेश की जेल मे मार दिया गया। उत्तर प्रदेश की जेलों में कैदीयो की सुरक्षा नही हो रही है।

क्या भीम आर्मी संस्थापक हमारे क्रांतिकारी साथी एडवोकेट चंद्रशेखर आज़ाद रावण जेल मे सुरक्षित हैं? जेल मे सुरक्षा पर बहुत से सवाल खडे हो गये हैं अब तो जेलें भी सुरक्षित नहीं रह गयी हैं”।

ये खबर भी पढ़ें  ममता ने BJP को बताया तिलचट्टा, कहा- "पंख लगाकर मोर बनने का सपना न देखें, पश्चिम बंगाल और ओडिशा कभी नहीं जीत पाएंगे"

Bhim army raise question over Chandrashekhar jail security

रिपोर्ट के मुताबिक, 9 मई 2017 को सहारनपुर में राजपूतों और दलितों के बीच हुई हिंसक झड़पों के बाद भीम आर्मी के संस्थापक और पेशे से वकील चंद्रशेखर आज़ाद को हिमाचल प्रदेश के डलहौजी से पिछले साल 8 जून को गिरफ्तार किया गया था। वो तभी से जेल में बंद हैं। चंद्रशेखर पर हिंसा को भड़काने का आरोप है।

बता दें कि 9 जुलाई को माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की यूपी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जिसके बाद मुन्ना बजरंगी की पत्नी ने बीजेपी नेताओं और सूबे के कई बड़े अधिकारियों पर इस हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया था। इस मामले में पुलिस की ओर से सुनील राठी को आरोपी बनाया गया है। फिलहाल मामले की जांच चल रही है।

ये खबर भी पढ़ें  राहुल गांधी का 10वां सवाल: मोदी जी, कहा गए वनबंधु योजना के 55 हजार करोड़?