Press "Enter" to skip to content

असम में BJP को बड़ा झटका, पार्टी की कार्यप्रणाली से नाखुश विधायक ने दिया इस्तीफा

Assam BJP MLA resigns

देश में आगामी लोकसभा चुनाव होने में बहुत ही कम वक्त बाकी रह गया है। इसी के मद्देनजर राजनीतिक सरगर्मियां भी तेज हो गई है। साथ ही नेताओं के पार्टी छोड़ने और दूसरी पार्टी में ठिकाने बनाने की खबरें आने लगीं हैं। लेकिन ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की मुश्किले बढ़ती नज़र आ रही है।

गौरतलब है कि, हाल ही में राजस्थान में सत्ताधारी बीजेपी और मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को बड़ा झटका लगा है। जहां पिछले दिनों बीजेपी से नाता तोड़ने वाले बाड़मेर जिले में शिव सीट से विधायक एवं पूर्व सांसद मानवेंद्र सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए

वहीं, महाराष्ट्र विधानसभा सभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले बागी BJP नेता आशीष देशमुख ने भी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता छोड़ दी। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया था कि भाजपा नीत राज्य सरकार ने ‘पंगुता जैसी स्थिति’ पैदा कर दी है।

इसी बीच अब असम में बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, पार्टी के फैसलों और कार्यप्रणाली से नाखुश विधायक तेराश गोवाला ने विधानसभा की सदस्यता से मंगलवार (23 अक्टूबर) को इस्तीफा दे दिया।

Assam BJP MLA resigns
Assam BJP MLA resigns

भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, गोवाला विधानसभा में दुलियाजान सीट का प्रतिनिधित्व करते थे, और उन्होंने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को अपना इस्तीफा भेज दिया। भाजपा सूत्रों ने कहा कि गोवाला, सादिया सीट से भाजपा विधायक बोलिन चेतिया को राज्य के स्वामित्व वाली असम गैस कंपनी लिमिटेड (एजीसीएल) का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने से नाखुश थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, जब उनसे खासकर असम गैस कंपनी लिमिटेड में उन्हें कोई पद नहीं देने के मुद्दे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘वह एक कारण है। एजीसीएल दुलियाजान में है और वहां के लोगों ने मुझे अपना प्रतिनिधि चुना। उनकी मुझसे कुछ आकांक्षाएं हैं लेकिन मुझसे संपर्क किए बगैर ही कंपनी में नियुक्ति कर दी गई। मैं यह नहीं कह रहा कि आप मुझे यह पद दे दीजिए लेकिन कम से कम मुझसे संपर्क तो किया जाना चाहिए था।’

बता दें कि, गोवाला ने इस्तीफा ऐसे समय में दिया है, जब एक दिन पहले सोनोवाल के नेतृत्व वाली सरकार ने भाजपा और सहयोगी दलों के 40 विधायकों और नेताओं को राज्य के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में नियुक्त किया है।

जब गोवाला से पूछा गया कि क्या पार्टी के दबाव में इस्तीफा वापस लेने की संभावना है तो उन्होंने कहा, ‘मैंने मुख्यमंत्री को मुद्दों के बारे में बता दिया है। यदि मुझे संतोषजनक उत्तर मिलता है तो मैं उस पर पुनर्विचार कर सकता हूं।’ गोवाला ने यह भी कहा कि उन्होंने त्यागपत्र विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी को नहीं भेजा है, अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के साथ विचार विमर्श करने के बाद वह ऐसा करेंगे।

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: