Press "Enter" to skip to content

पंजाब: अमृतसर में रावण दहन के वक्त दिल दहला देने वाला रेल हादसा, 61 लोगों की मौत, 72 घायल

Amritsar train accident

पंजाब के अमृतसर से दिल दहला देने वाले रेल हादसे की खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमृतसर के पास जौड़ा फाटक पर शुक्रवार(19 अक्टूबर) की शाम रावण दहन देखने के लिए रेल पटरियों पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से करीब 61 लोगों की मौत हो गई जबकि 72 अन्य घायल हो गए।

Amritsar train accident
Amritsar train accident

रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार शाम दशहरा पर्व के दौरान रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर भारी संख्या में लोग रावण का पुतला दहन देख रहे थे। इसी दौरान रावण दहन के वक्त भगदड़ मच गई। इसकी वजह से दहन देखने पहुंचे भारी संख्या लोग तेज रफ्तार ट्रेन की चपेट में आ गए।

Amritsar train accident
Amritsar train accident

वहीं, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि मरने वालों के रिश्तेदारों को पांच लाख रूपये की सहायता राशि दी जायेगी।

 

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि मृतकों की संख्या बढ़कर 61 हो गई है। इससे पहले अमृतसर के प्रथम उपमंडलीय मजिस्ट्रेट राजेश शर्मा ने 58 लोगों की मौत की पुष्टि की थी। उन्होंने कहा था कि कम से कम 72 घायलों को अमृतसर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि रावण दहन और पटाखे फूटने के बाद भीड़ में से कुछ लोग रेल पटरियों की ओर बढ़ने लगे जहां पहले से ही बड़ी संख्या में लोग खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे। उन्होंने बताया कि उसी वक्त दो विपरीत दिशाओं से एक साथ दो ट्रेनें आईं और लोगों को बचने का बहुत कम समय मिला। उन्होंने बताया कि एक ट्रेन की चपेट में कई लोग आ गए।

इस घटना के बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई, बदहवास लोग अपने करीबियों को तलाशने लगे। क्षत-विक्षत शव घटना के घंटों बाद भी घटनास्थल पर पड़े थे क्योंकि नाराज लोग प्रशासन को शव हटाने नहीं दे रहे थे। कई शवों की पहचान भी नहीं हो सकी, जमीन पर क्षत-विक्षत शव पड़े हुए थे।

Amritsar train accident1
Amritsar train accident1
Amritsar train accident

लोगों ने स्थानीय विधायक नवजोत कौर सिद्धु के खिलाफ नारेबाजी की जो रावण दहन कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि के तौर पर वहां मौजूद थीं। उन्होंने बाद में कहा कि हादसे के फौरन बाद वह अस्पताल पहुंचीं। उन्होंने कहा कि रेलवे को यह सुनिश्चित करना चाहिए था कि दशहरा आयोजन के दौरान ट्रैक के इस खंड पर ट्रेन की रफ्तार धीमी रहे।

Amritsar train accident
Amritsar train accident

नवजोत कौर ने कहा, ‘हर साल वहां दशहरा आयोजन होता है।’ उन्होंने कहा कि वह हादसे से पहले ही वहां से चली गई थीं। इस घटना के बाद परेशान लोगों ने अपने दिल दहलाने वाले अनुभव साझा किये।

हादसे के बाद चश्मदीदों ने कहा, ‘भीड़भाड़ वाले इलाके से गुजरते हुए ट्रेन की रफ्तार अमूमन कम होती है। लेकिन हादसे के वक्त ट्रेन काफी तेजी से गुजरी।’ उनका कहना था कि ऐसा मंजर उन्होंने पहले कभी नहीं देखा।

वे अपने परिजनों को हादसे के बाद पहचान नहीं पा रहे थे। एक चश्मदीद के मुताबिक, ‘हादसे के बाद हाथ-पैर मिल जाते थे। लेकिन यहां तो कुछ भी नहीं मिल रहा। हम पहचान नहीं पा रहे कि हमारे लोग कौन हैं।’

Amritsar train accident2
Amritsar train accident2

 

भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, एक गमगीन महिला ने कहा, ‘मैंने अपना नाबालिग बेटा खो दिया, मुझे मेरा बेटा लौटा दो।’

एक स्थानीय शख्स ने कहा, ‘कई बार हमने अधिकारियों और स्थानीय नेताओं से कहा है कि इस मुद्दे को रेलवे के साथ उठाएं कि दशहरे के दौरान फाटक के पास ट्रेनों की गति को कम रखा जाए, लेकिन किसी ने हमारी बात नहीं सुनी।’

एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि पटाखों के शोर की वजह से लोगों को आ रही ट्रेन की आवाज नहीं सुन सकी।

इस बीच पंजाब सरकार ने शनिवार को एक दिन के शोक का ऐलान किया है। दफ्तर और शिक्षण संस्थान शनिवार को बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने घटना की जांच के आदेश दिये हैं।

उन्होंने कहा, ‘अभी मुझे नहीं पता है कि रेलवे स्टेशन के बगल में रावण का यह पुतला क्यों बनाया गया था। लेकिन प्रशासन इसे देखेगा और जब कल मैं वहां जाउंगा तो हम इसकी जांच करेंगे।’

सिंह ने अपना तयशुदा इस्राइल दौरा स्थगित कर दिया है और वह शनिवार सुबह अमृतसर जा रहे हैं। पंजाब सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिये पांच-पांच लाख रूपये के मुआवजे का भी ऐलान किया है। मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में घायल हुए सभी लोगों के लिए मुफ्त इलाज की घोषणा की है।

Facebook Comments
More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

%d bloggers like this: