11 CMs facing criminal cases fadnavis top list
11 CMs facing criminal cases fadnavis top list

11 CMs facing criminal cases fadnavis top list

राजनीतिक सुधारों के लिए काम करने वाले संगठन ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रैटिक रिफॉर्म’ (ADR) ने सोमवार (12 फरवरी) को राज्य के मुख्यमंत्रियों के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामलों और उनकी संपत्ति को लेकर एक रिपोर्ट पेश की है।

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के कुल 31 मुख्यमंत्रियों में से 11 के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से 25 मुख्यमंत्री करोड़पतियों की लिस्ट में शामिल हैं। इतना ही नहीं, इनमें से 8 के खिलाफ गंभीर आपराधिक आरोप भी दर्ज है।

ये खबर भी पढ़ें  राहुल गाँधी का प्रचार के दौरान आक्रामक रूप, ऐसे उड़ाया मोदी का मजाक

ADR रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ सबसे ज़्यादा 22 अपराधिक मामले दर्ज हैं, जिसमें से 3 गंभीर आपराधिक मामलों के केस हैं। जैसे स्वेच्छा से खतरनाक हथियारों या साधनों से चोट पहुंचाना, गैरकानूनी विधानसभा का हिस्सा, दंगेबाजी, धोखाधड़ी के साथ सरकारी कर्मचारी के टोकन के इस्तेमाल का केस दर्ज है।

रिपोर्ट में बिहार के नीतीश कुमार, दिल्ली के अरविंद केजरीवाल, झारखंड के रघुबर दास, यूपी के योगी आदित्य नाथ, तेलंगाना के के सी राव, केरल के पिनराई विजयन, जम्मू कश्मीर की महबूबा मुफ्ती, पुडुचेरी के नारायणसामी, आंध्र प्रदेश के चंद्रबाबू नायडू, पंजाब के कैप्टन अमरिंदर सिंह का नाम शामिल है।

ये खबर भी पढ़ें  न्यूयॉर्क टाइम्स: हिन्दू युवा वाहिनी आतंकी संगठन और सीएम योगी सरगना
11 CMs facing criminal cases fadnavis top list

रिपोर्ट के मुताबिक, देश के मुख्यमंत्रियों की संपत्ति की बात करें तो इस समय चंद्रबाबू नायडू देश के सबसे अमीर मुख्यमंत्री हैं, जबकि त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार के पास सबसे कम संपत्ति है। रिपोर्ट के मुताबिक, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के पास 177 करोड़ रुपए की संपत्ति है, जबकि दूसरे नंबर पर अरुणाचल प्रदेश के पेमा खांडू हैं जिनके पास 129 करोड़ रुपए की संपत्ति है।

आपराधिक मामलों की बात करें तो सबसे ज्यादा मामले भारतीय जनता पार्टी के नेता व महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इस लिस्ट में टॉप पर हैं। फडणवीस के खिलाफ कुछ गंभीर आरोप भी दर्ज है। जिसमें स्वेच्छा से खतरनाक हथियारों या साधनों से चोट पहुंचाना, गैरकानूनी विधानसभा का हिस्सा, दंगेबाजी, धोखाधड़ी के साथ सरकारी कर्मचारी के टोकन के इस्तेमाल करना इस तरह के करीब 22 मामले फडणवीस के खिलाफ दर्ज है।

ये खबर भी पढ़ें  दिल्ली: अस्पताल की बड़ी लापरवाही, जिंदा बच्चे को मृत बता कर माँ-बाप को सौंपा