Business

मोदी सरकार के फर्जी आयकर आंकड़े

Fake income tax return

रविवार के इंडियन एक्सप्रेस में आयकर विभाग के जारी आंकड़ों के आधार पर छपा है कि इस साल आयकर जमा करने वालों की संख्या में 25 प्रतिशत की वृद्धि तो हुई है। मगर इसमें करीब 70 फीसदी सालाना पांच लाख या उससे कम आय वाले हैं। मतलब संख्या भले बढ़ी है, आयकर वसूली इस संख्या के अनुपात में नहीं बढ़ेगी। पांच लाख या उससे कम की आयकर कर देयता बहुत कम है।

Download Our Android App Online Hindi News

1 अप्रैल 2017 से 5 अगस्त 2017 के बीच 2.83 करोड़ नए आयकर दाताओं ने टैक्स रिटर्न भरा। इनमें से 2.03 करोड़ ऐसे व्यक्ति, कंपनी या संस्थाएं हैं जिनकी आय 5 लाख या उससे कम ही है।

अमित माहेश्वरी, माहेश्वरी एसोसिएट, का कहना है कि नए करदाताओं के अधिकांश से कोई कर नहीं मिलने वाला है। नए करदाताओं की औसत आय 2.7 लाख होती है जो 2.5 लाख तक कर माफी की सीमा से थोड़े ही ऊपर हैं। इस तबके की आमदनी बढ़ने के साथ साथ कर वसूली बढ़ सकती है।

2016-17 में 2.27 करोड़ लोगों ने आयकर रिटर्न भरा था। इस साल 5 अगस्त तक 2.83 करोड़ लोगों ने रिटर्न भरा है। 2016-17 में 9.9 फीसदी आयकर रिटर्न भरने वालों की संख्या बढ़ी थी। 2017-18 में 24.7 फीसदी की दर से संख्या बढ़ी है।

5 लाख से अधिक की आमदनी वाले लोगों की संख्या भी देखिये। इस वित्त वर्ष में 76.49 लोगों ने 5 लाख से अधिक सालाना आमदनी का रिटर्न भरा है। नोटबंदी के दौरान दिए गए भाषणों में प्रधानमंत्री ने कहा था कि रिटर्न भरने वालों में सिर्फ 24 लाख लोग हैं जिनकी आमदनी 10 लाख से अधिक है। क्या ऐसा हो सकता है? इसका जवाब नहीं मिला कि नए करदाताओं में कितने नए लोग ऐसे हैं जिनकी आमदनी 10 लाख से अधिक है। इस साल अप्रैल-जुलाई के बीच प्रत्यक्ष कर संग्रह 19.2 प्रतिशत बढ़ा है।

ये खबर भी पढ़ें  भारत के सौ अमीरों की संपत्ति में 26 फीसदी की वृद्धि हुई, क्या आपकी संपत्ति, सैलरी इतनी बढ़ी है?

फरवरी महीने में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा था कि भारत में प्रत्यक्ष कर का संगर्ह ख़र्च के अनुपात में नहीं है। 76 लाख लोग 5 लाख से ऊपर की सालाना आमदनी पर आयकर भरते हैं। इनमें से 56 लाख वेतनभोगी लोग हैं। स्वरोज़गार वाले अभी भी बड़ी संख्या में कर नहीं दे रहे हैं।

आंकड़ों के अनुसार एक अप्रैल से पांच अगस्त के बीच केवल 45,430 व्यक्तियों ने ई रिटर्न फाइल किया है, जिनकी आमदनी साल में एक करोड़ या उससे अधिक है। 2012-13 में एक करोड़ से अधिक आय वाले 5,430 लोगों ने ही ई रिटर्न भरा था। करोड़पतियों की संख्या तो बढ़ी है। मगर नीचे के स्तर पर देखिये तो आमदनी और आयकर की दूसरी तस्वीर नज़र आएगी।

ये खबर भी पढ़ें  स्टेट बैंक ने आपकी गरीबी पर वसूला 1771 करोड़ का ज़ुर्माना

(Ravish kumar के फेसबुक पेज से)

ये भी पढ़ें: बीजेपी नेताओं पर सबसे ज्यादा दर्ज महिलाओं से संबंधित गंभीर अपराध

You could follow TR News posts either via our Facebook page or by following us on Twitter or by subscribing to our E-mail updates.

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

To Top